Autobiography of lal bahadur shastri in hindi. लालबहादुर शास्त्री कौन थे? Lal Bahadur Shastri Biography in Hindi 2022-11-20

Autobiography of lal bahadur shastri in hindi Rating: 6,9/10 1563 reviews

लाल बहादुर शास्त्री का जीवन एक ऐसा जीवन था जो भारतीय समाज में समझाने योग्य हो सकता है। वे एक अमीर परिवार से नहीं थे और इनका जीवन सफलता पाने के लिए बहुत मेहनत किया था। शास्त्री जी की जन्म 2 अक्टूबर 1904 को उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गांव में हुई थी। वे अपने पिता से बहुत ज्यादा प्रेम करते थे और उनके साथ अपने बचपन का समय बहुत अच्छा बिताया। शास्त्री जी के पिता ने उन्हें पढ़ाई में बहुत मजबूत बनाया था और वे अपने पढ़ाई में बहुत अच्छे हुए।

शास्त्री जी के जीवन में भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लेना एक बहुत ही महत

लाल बहादुर शास्त्री की जीवनी

autobiography of lal bahadur shastri in hindi

Because of his work and the pure life, he became an example of sincerity. और मंत्रिमंडल के भी सदस्य इस बैठक में उपस्थित थे। हालांकि प्रधानमंत्री शास्त्री जी इस बैठक में कुछ विलंब से पहुंचे पर उनके आते ही सभी का विचार विमर्श प्रारंभ हुआ। सेनाओं के प्रमुखों ने शास्त्री जी को पूरी स्थिति को समझाते हुए कहा! इस दौरान तात्कालिक लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु Lal Bahadur Shastri Death लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु को लेकर आज भी संशय बना हुआ है. Ans : 11 जनवरी 1966 Q : लाल बहादुर शास्त्री को भारत रत्न कब दिया गया? मारोमें बदल दिया। और 1942 के इस भारत छोड़ो आंदोलन को पूरे देश में फैला दिया। इस दौरान लाल बहादुर शास्त्री पूरे 11 दिन तक भूमिगत रहते हुए इस आंदोलन को चलाने में महत्वपूर्ण भूमिका में रहे। और 19 अगस्त 1942 को शास्त्री जी अंग्रेजों द्वारा गिरफ्तार कर लिए गए। लाल बहादुर शास्त्री के राजनीतिक मार्गदर्शकों में जवाहरलाल नेहरू ,पंडित गोविंद बल्लभ पंत और पुरुषोत्तम दास टंडन जैसे राजनीतिज्ञ शामिल थे। 1929 में इलाहाबाद से आने के बाद शास्त्री जी पुरुषोत्तम दास टंडन के साथ मिलकर इलाहाबाद में भारत सेवक संघ की इकाई सचिव के रूप में कई दिनों तक काम किया। इलाहाबाद में रहते हुए हैं शास्त्री जी और जवाहरलाल नेहरू की निकटता बढ़ती गई और धीरे-धीरे शास्त्री जी का राजनीतिक कद भी बढ़ता चला गया। धीरे धीरे राजनीति में सफलता की सीढ़ियां चढ़ते हुए लाल बहादुर शास्त्री जवाहरलाल नेहरु के मंत्रिमंडल में गृह मंत्रीजैसे प्रमुख पद पर आसीन हुए! इस दौरान उन्होंने कुछ समय के लिए उद्योग और व्यापार मंत्री के रूप में कार्य किया. Lal Bahadur Shastri was an amiable and unmoved personality. Lal Bahadur Shastri is considered an example to the responsibility of discharging responsibility in Indian politics.

Next

Biography of Lal Bahadur Shastri in Hindi » Jivan Parichay

autobiography of lal bahadur shastri in hindi

वह गांधी जी के बाद अनगिनत भारतीयों के सबसे प्रिय नेता थे. Bhabha was entrusted with all the trials related to nuclear energy. रेल मंत्री के रूप में उनके कार्यकाल के दौरान एक गंभीर रेल दुर्घटना हुई थी. उन्होंने हमेशा गरीबों लोगों के जीवन में सुधार के महत्व पर जोर देते थे. इनके पिताजी शिक्षक के रूप में कार्य करते थे इसलिए उन्हें मुंशी जी कह कर बुलाते थे.


Next

Lal Bahadur Shastri Complete Biography In Hindi ~ 2022

autobiography of lal bahadur shastri in hindi

The mystery of this death has not been revealed even today. प्रारंभिक शिक्षा शास्त्री जी प्रारंभिक पढ़ाई मिर्जापुर से प्राथमिक स्कूल से हुई थी उसके बाद हरिश्चंद्र हाई स्कूल काशी विद्यापीठ में हुआ था लाल बहादुर शास्त्री जी कई मील की दूरी पढ़ने के लिए नंगे पांव है चले जाते थे गर्मी के दिन में भी सड़क बहुत गर्म हुआ करती थी तभी वह ऐसे ही चले जाते थे लाल बहादुर जी ने संस्कृत भाषा में स्नातक किया था काशी विद्यापीठ से उन्होंने स्नातकोत्तर किया था जिसके बाद उन्हें शास्त्री की उपाधि मिली थी उसके बाद उन्होंने शास्त्री को अपने नाम के आगे जोड़ लिया 1928 ईस्वी में शास्त्री जी का विवाह ललिता नाम केक कन्या से हुआ Lal Bahadur Shastri जी के संताने थी उनके पुत्र अनिल शास्त्री बाद में कांग्रेस पार्टी के सदस्य भी रहे. Ans :20 अक्टूबर 1904 Q : लाल बहादुर शास्त्री दूसरे प्रधानमंत्री कब बने? कामराज की महत्वपूर्ण भूमिका थी। शास्त्री जी हालांकि मृदुभाषी थे, नेहरूवादी समाजवादी थे और इस प्रकार रूढ़िवादी दक्षिणपंथी मोरारजी देसाई की चढ़ाई को रोकने के इच्छुक लोगों से अपील करते थे. Yet he never gave up on the battle of life. Conclusion The relevance of Lal Bahadur still exists in the context of national life in India.

Next

Lal Bahadur Shastri biography in hindi लाल बहादुर शास्त्री1

autobiography of lal bahadur shastri in hindi

महात्मा गांधी के सिद्धांतों और आदर्शों को मानते हुए, उन्होंने अपने जीवन की सभी गतिविधियों को प्रबंधित किया. Shastri was imprisoned at a young age for participating in the agitation. His birthday is celebrated on October 2. Lal Bahadur Shastri death in Hindi उजबेकिस्तान की राजधानी ताशकंद में पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब ख़ान के साथ युद्ध समाप्त करने के समझौते पर हस्ताक्षर करने के कुछ घन्टे बाद 11 जनवरी 1966 की रात में ही उनकी मृत्यु हो गयी। यह आज तक रहस्यबना हुआ है कि क्या वाकई शास्त्रीजी की मौत हृदयाघात के कारण हुई थी? वह हमेशा पार्टी के प्रति पूरी निष्ठा के साथ कार्य करते थे. वे भारत के द्वितीय प्रधानमंत्री थे.

Next

Lal Bahadur Shastri Biography In Hindi

autobiography of lal bahadur shastri in hindi

Lal Bahadur Shastri even swam across the river to cross the river as he had a money shortage to cross by boat. However, living in captivity made Lal Bahadur a great extent experienced in the field of classical struggle and matured during this period. Lal Bahadur Shastri took up teaching at this Kashi Vidyapeeth. भारत माता के इस सबसे योग्य संतान ने स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रिय भाग लिए थे और साथ ही साथ स्वतंत्रता के बाद के भारत के निर्माण के लिए जिम्मेदारी ली थी. When and where was Lal Bahadur Shastri born? लाल बहादुर शास्त्री के पुत्र अनिल शास्त्री कांग्रेस पार्टी के सम्मानित नेता है और भारतीय जनता पार्टी के एक वरिष्ठ नेता सुनील शास्त्री है. जो उनके दुश्मनों की एक गहरी साजिश थी.

Next

Lal Bahdur Shastri Biography in Hindi

autobiography of lal bahadur shastri in hindi

इनकी मृत्यु के बाद पुनः गुलजारी लाल नन्दा को कार्यकालीन प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया. शास्त्री जी का व्यक्तित्व बड़ा ही सादगी पूर्ण और साहसिक था. इस दौरान उन्होंने रेलवे मंत्री के रूप में कार्य किया था. Lal Bahadur Shastri worked diligently for the society for more than thirty years. He dared to take up a full-stage war against Pakistan at that time and that is when the wisdom of the Indian Air Force and the Ground Army came to the force for the first time.


Next

Lal Bahadur Shastri Biography in Hindi

autobiography of lal bahadur shastri in hindi

भारतीय आज भी हर साल एक ही दिन गांधी जयंती और शास्त्री जयंती मनाते हैं. शास्त्री जी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के आदर्श पथ पर चलते थे. वर्ष 1926 में शास्त्री जी ने एक रेल दुर्घटना की जिम्मेदारी को लेते हुए मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था. Shastri succeeded in providing a strong leadership across the country only after being in charge of the Prime Minister for 19 months. इसलिए वह दुर्घटना के बाद बहुत परेशान होकर उन्होंने स्वेच्छा से रेल मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था. इस दौरान उन्हें 1 वर्ष के लिए जेल जाना पड़ा था. लाल बहादुर शास्त्री की जीवनी — Biography of lal bahadur shastri in Hindi प्रस्तावना लाल बहादुर शास्त्री उन कुछ योग-जनित महापुरुषों, प्रख्यात लोक नायकों, शांतिप्रिय जन सेवकों में से एक हैं जिन्होंने भारत माता की जय और गौरव के लिए अपना जीवन बलिदान कर दिया था.

Next

लालबहादुर शास्त्री कौन थे? Lal Bahadur Shastri Biography in Hindi

autobiography of lal bahadur shastri in hindi

On the other hand, thirteen days after the death of Lal Bahadur Shastri, Homi Jahangir Bhabha was on his way to Geneva on an Air India flight on January 24, 1966. Â Positively, Lal Bahadur Shastri introduced the tradition of appointing women drivers and women conductors in the first transport department while serving as the Transport Minister of India. ऐसाकहाजाताहैकिसमझौतेकेदौरानशास्त्रीजीपरदबावडालकरहस्ताक्षरकरवाएगए।उसकेबादउसीसमझौतेकीरातकोही 11 जनवरी 1966 ई०कोउनकीरहस्यपूर्णतरीकेसेमृत्युहोगई, उसकेबादलोगोंकोबतायागयाकीशास्त्रीजीकोदिलकादौरापड़ाथा।जिसकेबादउनकापोस्टमार्टमनहींकियागया। हालांकिइसकेबादकईसारेराजसामनेआएजोइसतरफइशाराकररहेथेंकिउनकीमौतसंदिग्धपरिस्थितियोंमेंहुईथी, औरउनकीपत्नीललिताकाकहनाहैकिशास्त्रीजीकामृतशरीरनीलापड़चुकाथा।उनकेमौतकेबादकईदिनोंतकछान-बिनहुई, हालांकि PMO नेकहाकीइसतरहकेखुलासेसेविदेशीसंबंधखराबहोसकतेहैं।इसलिएइसेखारिजकरदियागया। इसेभीपढ़ें:. इस हादसे में कई यात्रियों की मौत हो गई थी. और प्रधानमंत्री नेहरू के निधन के पश्चात भारत की दूसरे प्रधानमंत्री बनने का सौभाग्य हासिल किया। 1964 में जब लाल बहादुर शास्त्री देश के प्रधानमंत्री बने तो प्रधानमंत्री के रूप में उनका शासन काल काफी कठिन रहा। उस वक्त पूंजीपति देश भारत में हावी होना चाहते थे और दुश्मन देश हमारे देश में आक्रमण करने की फिराक में बैठे थे। इन सबके अलावा देश में खाद्यान्न का भी एक बड़ा संकट सामने खड़ा था। प्रधानमंत्री बनने के बाद अपने प्रथम संवाददाता सम्मेलन में शास्त्री जी ने कहा! हस्ताक्षर करने के बाद उसी रात तारीख 11 जनवरी 1966 को उनकी मृत्यु हो गई. भारत देश आजाद हुआ उसके बाद लाल बहादुर शास्त्री उत्तर प्रदेश संसद के सचिव के रूप में नियुक्त किए गए उसके बाद गोविंद बल्लभ पंत के मंत्रिमंडल में लाल बहादुर शास्त्री को परिवहन और पुलिस मंत्रालय का कार्यभार सौंपा गया. Â Lal Bahadur Shastri was sworn in as the second Prime Minister of independent India in May 1964 after the death of Jawaharlal Nehru.


Next

Biography of Lal Bahadur Shastri » Dev Library

autobiography of lal bahadur shastri in hindi

इसके बाद इन्होने दांडी यात्रा, असहयोग आंदोलन और भारत छोड़ो आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाई थी. उम्मीद करता हूँ आपको ये लेख आपको पसंद आया होगा. In addition, there are several other social institutions in his memory including Lal Bahadur Shastri National Academy of Administration Mussoories, Uttarakhand etc. जिसके बाद उन्होंने शास्त्री की उपाधि प्राप्त की थी. स्वतंत्रता के बाद के भारत में, उन्होंने राजनीति में भी सक्रिय भाग लिया था. वर्ष 1965 में पाकिस्तान ने भारत पर हमला कर दिया था. This resignation of Lal Bahadur Shastri set the ideal for establishing constitutional justice in the country.

Next

Download Lal Bahadur Shastri biography book in Hindi PDF

autobiography of lal bahadur shastri in hindi

He was married to Lalita Devi of Mirzapur near his home town in 1927 in a completely traditional manner. While being a railway minister after rail accident, he resigned from his post and presented an example. इस प्रकार उनका कामकाजी जीवन समाप्त हो गया. Ans : 1966 में Q : लाल बहादुर शास्त्री का जन्म कब हुआ? His financial condition deteriorated after he resigned as railway minister. Achievements Shastri, who has always maintained the spirit of working for the people, for the first time to prevent corruption while he was the Home Minister of India.

Next